भाजपा सरकार की 100 दिन की उपलब्धि है धन बल के सहारे चंपावत का उपचुनाव जीतना-बिष्ट

0
26

कांग्रेस ने वर्तमान धामी सरकार के 100 दिनों के कार्यकाल को निराशाजनक व पूरी तरह से विफल करार दिया है।
उत्तराखंड कांग्रेस के मीडिया पैनल लिस्ट शीशपाल सिंह बिष्ट ने सरकार के 100 दिन के कार्यकाल पर हमला बोलते हुए कहा की भाजपा ने उत्तराखंड की जनता से जो चुनावी वादे किए थे उन पर धामी सरकार बिल्कुल फेल साबित हुई है।एक भी चुनावी वादा सरकार नहीं निभा पाई। इन 100 दिन के अंदर चार धाम यात्रा पर सरकार बिल्कुल विफल रही 200 से ज्यादा तीर्थयात्री समुचित चिकित्सा व्यवस्था के अभाव में अपने प्राणों को अब तक गवा चुके हैं। केदारनाथ में घोड़े खच्चर ने बड़ी मात्रा में अपनी जान गवाई जिन यात्रियों के रजिस्ट्रेशन किए गए रजिस्ट्रेशन के बावजूद वह कई कई दिन तक तीर्थों के दर्शन नहीं कर पाए।इसके साथ ही सरकारी विभागों में कितने पद रिक्त हैं अभी तक यह सरकार नहीं बता पाई। बेरोजगारों को कितने पदों पर नियुक्तियां दी जाएंगी अभी तक साफ नहीं है।पूरे प्रदेश में हत्या और बलात्कार की घटनाओं की बाढ़ सी आई हुई है,लेकिन सरकार कानून व्यवस्था के हर मामले पर फेल है। महंगाई सरकार के नियंत्रण से बाहर है।अफसरशाही बेलगाम है मंत्री और अधिकारियों के झगड़े सरेआम हैं। विकास के लिए सरकार की अभी तक कोई योजना धरातल पर नहीं आई है।केंद्र और राज्य में भारतीय जनता पार्टी की सरकार होने के बावजूद प्रदेश की जनता को हर मोर्चे पर निराशा हाथ लग रही है।जो बहुत ही चिंता और निराशा का विषय है। संविदा कर्मचारी सड़कों पर आंदोलन को मजबूर हैं कई कई वर्षों सरकारी विभागों में नौकरी करने के बाद उनको निकाला जा रहा है।कहा कि क्या यही सरकार की रोजगार नीति है। मुख्यमंत्री दिल्ली दरबार के नेताओं को खुश करने में ही अपना अधिक समय व्यतीत कर रहे हैं।धामी सरकार की एकमात्र उपलब्धि 100 दिनों के अंदर धन बल और सरकारी तंत्र का दुरुपयोग कर मुख्यमंत्री का चुनाव जीता जाना मात्र है।
शीशपाल सिंह बिष्ट ने कहा की धामी सरकार को सरकारी विभागों में रिक्त पदों पर बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध कराना चाहिए प्रदेश के विकास की क्या नीति सरकार की है। यह भी प्रदेश की जनता को बताना चाहिए और कानून व्यवस्था पर सरकार को श्वेत पत्र जारी करना चाहिए।चार धाम यात्रा की नाकामी को देखते हुए कांवड़ यात्रा के प्रबंध अभी से करने चाहिए।
बिष्ट ने आगे कहा कि कुल मिलाकर धामी सरकार 100 दिनों में ना तो विकास का कोई रोड मैप प्रस्तुत कर पाई और ना बेरोजगारों को रोजगार उपलब्ध करा सकी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here