2 min read

मुंबई। महाराष्ट्र में नयी सरकार बनने का रास्ता लगभग साफ हो गया है। शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी के नेताओं की मुंबई के नेहरू सेंटर में डेढ़ घंटे से ज्यादा चली बैठक में मुख्यमंत्री पद को लेकर आम सहमति बन गई है। बैठक के बाद बाहर आकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) चीफ शरद पवार ने साफ कहा कि जहां तक मुख्यमंत्री की बात है, उस पर कोई दोराय नहीं है। उद्धव ठाकरे को ही लीड करना चाहिए। इसके अलावा अन्य मसलों पर चर्चा जारी है।

यह भी पढ़ें :  नवंबर में जीएसटी रिटर्न में हुई 50 फीसदी की बम्पर बढ़ोत्तरी

उन्होंने बताया कि शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर औपचारिक ऐलान किया जाएगा। पवार ने कहा कि उद्धव ठाकरे के पास ही इस सरकार की लीडरशिप है। एनसीपी क्या ढाई साल के लिए सीएम पद लेगी, इस पर उन्होंने कहा कि लीडरशिप का इशू हमारे सामने पेंडिंग ही नहीं हैं। श्री पवार ने आगे कहा कि शनिवार को ही इस पर फैसला लिया जाएगा कि गवर्नर के पास कब जाना है। उधर, बैठक के बाद शिवसेना चीफ उद्धव ठाकरे ने कहा कि पहली बार तीन पार्टियों के नेता इकट्ठा बैठे हैं। हम चाहते हैं कि सरकार बनाने से पहले कोई ऐसा मसला न हो, जिसका हल हमारे पास न हो।

यह भी पढ़ें :  1 दिसंबर से पहले महाराष्ट्र में सरकार बन जाएगीः संजय राउत

उन्होंने कहा कि सकारात्मक चर्चा हुई और सभी मसलों पर बात हुई। वहीं, संजय राउत ने कहा कि मुख्यमंत्री पूरे पांच साल के लिए शिवसेना का ही होगा। शिवसैनिकों की इच्छा है कि उद्धव ठाकरे जी यह पद संभालें। उधर, शिवसेना सांसद संजय राउत ने भी उद्धव ठाकरे के सीएम पद नाम पर मुहर लगने का दावा किया है। वहीं, बताया जा रहा है कि कांग्रेस और एनसीपी अब स्पीकर पद को लेकर आमने-सामने हैं, दोनों पार्टियां स्पीकर पद चाहती हैं।

यह भी पढ़ें :  पत्रकारों की जायज-नाजायज नेतागीरी को बखूबी पहचान गई है योगी

सरकारमहाराष्ट्र में कांग्रेस, शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के संभावित गठबंधन को नितिन गडकरी ने मौकापरस्ती का गठबंधन बताया है। महाराष्ट्र की राजनीति के माहिर खिलाड़ी गडकरी ने कहा कि वैचारिक तालमेल न होने के कारण यह गठबंधन टिकेगा नहीं। उन्होंने यह भी कहा कि शिवसेना और बीजेपी का गठबंधन न होना देश, विचारधारा, हिंदुत्व और महाराष्ट्र के लिए नुकसानदायक है।

यह भी पढ़ें :  नशीली दवाएं बेचकर चांदी काट रहे मेडिकल स्टोर

महाराष्ट्र में कांग्रेस, शिवसेना और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के संभावित गठबंधन को नितिन गडकरी ने मौकापरस्ती का गठबंधन बताया है। महाराष्ट्र की राजनीति के माहिर खिलाड़ी गडकरी ने कहा कि वैचारिक तालमेल न होने के कारण यह गठबंधन टिकेगा नहीं। उन्होंने यह भी कहा कि शिवसेना और बीजेपी का गठबंधन न होना देश, विचारधारा, हिंदुत्व और महाराष्ट्र के लिए नुकसानदायक है।

शरद पवार के उद्वव ठाकरे के नाम की घोषणा के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने बहुत सधी हुई प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि तीनों पार्टियों ने सरकार बनाने के लिए सभी मुद्दों पर सकारात्मक चर्चा की, लेकिन बातचीत अभी पूरी नहीं हुई है। शनिवार को भी बातचीत जारी रहेगी।

यह भी पढ़ें :  उन आंटी जैसी सारी आंटियां हो जाएं तो बिगड़ी हुई पीढ़ी सुधर जाए…

महाराष्ट्र में चुनाव के बाद एनसीपी-कांग्रेस- शिवसेना के गठबंधन के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में शुक्रवार को याचिका दायर की गई। महाराष्ट्र के सुरेंद्र इंद्र बहादुर सिंह नामक व्यक्ति की ओर से याचिका दायर की गई है। याचिका में कहा गया है कि राज्य के मतदाताओं ने बीजेपी-शिवसेना गठबंधन के लिए जनादेश दिया है, अब चुनाव के बाद कोई दूसरे गठबंधन को सरकार बनाने का मौका मतदाताओं के साथ विश्वासघात होगा। अर्जी में मांग की गई है कि न्यायालय राज्यपाल को निर्देश दे कि वह एनसीपी कांग्रेस शिवसेना के गठबंधन को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित न करे।

अपनी राय हमें contact@hindsavera.com के जरिये भेजें। फेसबुकट्विटर और यूट्यूब पर हमसे जुड़ें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here